Skip to main content

शत्रु को नष्ट करने वाले महाशक्तिशाली गायत्री मंत्र


इस आर्टिकल में शत्रु और गुप्त शत्रु को नष्ट करने के और उसके हमले से बचने के महाशक्तिशाली नृसिंह भगवान और इन्द्र देव के तुरंत असर देने वाले गायत्री मंत्रों की जानकारी दी गयी है।

इन गायत्री मंत्रों से भयंकर दिव्य शक्ति का संचार होता है और शत्रु, जादू-टोने समेत सर्व खतरों और बाधाओं का नाश होता है।
 
शत्रु को नष्ट करने वाले महाशक्तिशाली गायत्री मंत्र

शत्रु नाशक उग्र नृसिंह गायत्री मंत्र:

इस नृसिंह गायत्री मंत्र के जाप के लाभ:

शत्रु को हराना या परास्त करना, किसी भी प्रकार के भय  को दूर करना, भूत-प्रेत को  भगा देना, कला जादू-टोने को नष्ट करना या किसी भी आपत्ति का बिना डरे सामना करना।

इस मंत्र को बोलने से साधक निडर, पराक्रमी, साहसी और ताकतवर बन जाता है और बिना डरे किसी का भी मुकाबला कर सकता है।

मंत्र
ॐ उग्र नृसिंहाय विद्महे वज्रनखाय धीमहि | तन्नो नृसिंह प्रचोदयात् ||

Mantra
Om Ugra Narasimhaya Vidmahe Vajranakhaya Dhimahi | Tanno Narasimha Prachodayat ||

इस नृसिंह गायत्री मंत्र का अर्थ: वज्र नखों वाले भगवान नृसिंह के उग्र रूप का मैं ध्यान कर रहा हूँ।

मंत्र विधि:
इस उग्र नृसिंह गायत्री मंत्र को सवेरे स्नान करके 7, 11, 21 या 108 बार बोलें और रात को भय सता रहा है तो रात को भी बोल सकते हो।

इस आर्टिकल का हिंदी वीडियो यहां देखा जा सकता है – नरसिहं भगवान का गायत्री महाशक्तिशाली मंत्र

शत्रु के हर वार से बचने का इन्द्र देव गायत्री मंत्र:

इस इन्द्र देव गायत्री मंत्र के लाभ:

दुश्मन के हमले से आसानी से बचा जा सकता है और हर खतरे से अपनी रक्षा की जा सकती है।

विद्या, ज्ञान की प्राप्ति होकर दिमाग की क्षमता और स्मरण शक्ति बढ़ जाती है।

मंत्र विधि: इस इन्द्र देव गायत्री मंत्र को सवेरे स्नान करके 7, 11, 21 या 108 बार श्रद्धा और आत्मविश्वास से बोलना है और आपकी इच्छा हो तो मंत्र को रात को सोने के पहले भी बोल सकते हो।

मंत्र
ॐ सहस्त्र नेत्राय विद्महे वज्र हस्ताय धीमहि | तन्नो इन्द्र: प्रचोदयात् ||

Mantra
Om Sahasra Nethraye Vidhmahe Vajra Hasthaya Dheemahi || Tanno Indrah Prachodayat ||

अर्थ: हजार आँखों वाले इन्द्र देव का मैं ध्यान कर रहा हूं, जिनके हाथ में वज्र अस्त्र है और जो मुझे दिव्य बुद्धि प्रदान करके मेरा मन रोशन करेंगे।

इस आर्टिकल का हिंदी वीडियो हमारे यूट्यूब चैनल पर देखा जा सकता है – इन्द्र देव का शत्रु विनाशक गायत्री मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

तुरंत काम करने वाले काली माता और हनुमानजी के महाशक्तिशाली शत्रु नाशक मंत्र

इस आर्टिकल में सबसे असरदार और तुरंत काम करने वाले काली माता और हनुमानजी के शत्रु नाशक मंत्रों की जानकारी दी गयी है। इन महाशक्तिशाली शत्रु को नष्ट करने वाले मंत्रों से किसी भी शत्रु का नाश कीया जा सकता है।

लाख कोशिश करने के बाद भी सफलता नहीं मिल रही है तो इस गणेश मंत्र को बोलें

लाख कोशिश करने के बाद भी किसी भी काम, कार्य या हेतु, जैसे कि नई नौकरी-धंधा पाने की कोशिश, प्यार-शादी करने के प्रयास, नया मकान खरीदने की कोशिश और अन्य कामों और मनोकामना पूरी करने में यश नहीं मिल रहा है तो इस श्री गणेश जी के सर्व कार्य सिद्धि मंत्र को बोलने से यश मिलने की संभावना बढ़ जाती है.

चमत्कारी बीज मंत्र और उनका जाप करने के फायदे

देवी देवताओं के १४ चमत्कारी और महा शक्तिशाली देवी देवताओं के बीज मंत्रों के रहस्य लाभ और फायदे इस पोस्ट में बताई गयी है. इन बीज मंत्रों का जाप या रोज स्मरण करने से आम इंसान, बच्चे और साधकों को लाभ हो सकता है.

बरगद के पेड़ के पत्ते के चमत्कारी उपाय

बरगद के पेड़ के पत्ते से किसी भी प्रकार की इच्छा या मनोकामना पूरी करने के और धन-दौलत पाने के 2 चमत्कारी सरल और आसान उपायों के बारे में इस आर्टिक्ल में जानकारी दी गयी है। इन घरेलू उपायों को करने के लिए ज्यादा से ज्यादा 5-10 मिनट लगते है। और यह इतने सरल है की इनका प्रयोग कोई भी व्यक्ति बिना परेशानी से कर सकता है।

महा शक्तिशाली मनोकामना पूर्ति और शत्रु नाशक बीज मंत्र

इस आर्टिकल में महादेव के मुख से निकले और डामर तंत्र में वर्णित सबसे शक्तिशाली मनोकामना पूर्ति करने के और दुश्मन से मुक्ति पाने के महा मंत्र के बारे में बताया है।

3 Words Hanuman Mantras to Destroy Enemies

Many times it is not possible for everyone to chant the श्री हनुमान अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली/Shri Hanuman Ashtottara Shatanamavali, which is a compilation of the 108 names of Lord Hanuman. Hence, in an emergency related to danger from enemies such people can chant these 3 words Hanuman Mantras derived from the Shri Hanuman Ashtottara Shatanamavali.