Skip to main content

किसी भी समस्या से बचने हर रोज सिर्फ १ बार बोलने के हनुमान और शनि मंत्र


इस पोस्ट में मैंने हनुमान जी और शनि देव के दो महा शक्तिशाली, आजमाए हुए और तुरंत काम करने वाले मंत्रों की जानकारी दी है जिन्हे हर रोज सवेरे और रात को सिर्फ एक-एक बार बोलने से साधक की सर्व खतरों, संकटों और समस्याओं से रक्षा होती है और उसे हर काम-कार्य में यश और सफलता मिलती है।

साधक की हर मनोकामना, इच्छा या मनोरथ की पूर्ति होकर उसे सुख-शांति और आनंद की प्राप्ति होती है।

इन हनुमान और शनि देव के मंत्रों को बोलने का प्रमुख लाभ:

1] साधक को आत्म रक्षा प्राप्त होती है और सर्व संकटों, खतरों, परेशानियों और समस्याओं का निवारण होता है। उदाहरण के तौर पर - शत्रु, गुप्त-शत्रु से परेशानी और खतरा, रोग-बीमारी-महामारी का संकट, आर्थिक पीड़ा, नौकरी-धंधे की समस्या, घरेलू जीवन में क्लेश।

2] इन अत्यंत सटीक और जल्द काम करने वाले श्री हनुमान और शनि देव के मंत्रों को बोलने से दिन अच्छा कटता है और सर्व कामों में मन में सोची हुई सफलता मिलती और हार चीज में इच्छित कार्य-सिद्धि प्राप्त होती है।

3] ग्रह बाधा,का निवारण होता है, काले-जादू टोने, भूत-प्रेत, बुरी-नजर और दुर्घटना के साधक की रक्षा होती है।

सफलता और आत्मरक्षा के लिए हर रोज सिर्फ १ बार बोलने के हनुमान और शनि मंत्र

इन हनुमान जी और शनि देव मंत्रों को बोलने की सरल और आसन विधि:

1] इस आत्म रक्षा और सफलता प्राप्ति हेतु मंत्र प्रयोग को किसी भी दिन शुरू किया जा सकता है और शुभ मुहूर्त, तिथि या योग का इंतजार करने की जरूरत नहीं है। दिशा-आसन, माला और खास पूजा-विधि का किसी भी प्रकार का बंधन नहीं है।

2] आगे बताए हुए हनुमानजी और शनि देव के मंत्रों को हनुमानजी और शनि देव का स्मरण करने के बाद हर रोज सवेरे और रात को सोने के पहले सिर्फ 1-1 बार बोलें।

मंत्र
ऊँ नमः वज्र का कोठा, जिसमें पिंड हमारा पैठा |
ईश्वर कुंजी ब्रह्मा का ताला, मेरे आठों याम का यती हनुमन्त रखवाला |

Mantra
Om Namah Vajra Ka Kotha, Jisme Pind Hamara Paitha | 
Ishwar Kunji Brahma Ka Taalaa, Mere Aathon Yaam Ka Yati Hanumant Rakhwala |

मंत्र
नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्‌।
छाया मार्तण्ड सम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्‌।

Mantra
Nilanjana Samabhasam Ravi Putram Yamagrajam |
Chaya Martanda Sambhutam Tam Namami Shanescharam |

नोट: इस चमत्कारी श्री हनुमान और शनि देव आत्मरक्षा और सर्व कार्य सिद्धि मंत्रों के विडिओ को आप हमारे यूट्यूब चैनल पर देख सकते हो: हर पीड़ा दूर करके सफलता पाने के हनुमान जी और शनि देव के शक्तिशाली मंत्र

Comments

Popular posts from this blog

लाख कोशिश करने के बाद भी सफलता नहीं मिल रही है तो इस गणेश मंत्र को बोलें

लाख कोशिश करने के बाद भी किसी भी काम, कार्य या हेतु, जैसे कि नई नौकरी-धंधा पाने की कोशिश, प्यार-शादी करने के प्रयास, नया मकान खरीदने की कोशिश और अन्य कामों और मनोकामना पूरी करने में यश नहीं मिल रहा है तो इस श्री गणेश जी के सर्व कार्य सिद्धि मंत्र को बोलने से यश मिलने की संभावना बढ़ जाती है.

चमत्कारी बीज मंत्र और उनका जाप करने के फायदे

देवी देवताओं के १४ चमत्कारी और महा शक्तिशाली देवी देवताओं के बीज मंत्रों के रहस्य लाभ और फायदे इस पोस्ट में बताई गयी है. इन बीज मंत्रों का जाप या रोज स्मरण करने से आम इंसान, बच्चे और साधकों को लाभ हो सकता है.

बरगद के पेड़ के पत्ते के चमत्कारी उपाय

बरगद के पेड़ के पत्ते से किसी भी प्रकार की इच्छा या मनोकामना पूरी करने के और धन-दौलत पाने के 2 चमत्कारी सरल और आसान उपायों के बारे में इस आर्टिक्ल में जानकारी दी गयी है। इन घरेलू उपायों को करने के लिए ज्यादा से ज्यादा 5-10 मिनट लगते है। और यह इतने सरल है की इनका प्रयोग कोई भी व्यक्ति बिना परेशानी से कर सकता है।

तुरंत काम करने वाले काली माता और हनुमानजी के महाशक्तिशाली शत्रु नाशक मंत्र

इस आर्टिकल में सबसे असरदार और तुरंत काम करने वाले काली माता और हनुमानजी के शत्रु नाशक मंत्रों की जानकारी दी गयी है। इन महाशक्तिशाली शत्रु को नष्ट करने वाले मंत्रों से किसी भी शत्रु का नाश कीया जा सकता है।

महा शक्तिशाली मनोकामना पूर्ति और शत्रु नाशक बीज मंत्र

इस आर्टिकल में महादेव के मुख से निकले और डामर तंत्र में वर्णित सबसे शक्तिशाली मनोकामना पूर्ति करने के और दुश्मन से मुक्ति पाने के महा मंत्र के बारे में बताया है।

3 Words Hanuman Mantras to Destroy Enemies

Many times it is not possible for everyone to chant the श्री हनुमान अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली/Shri Hanuman Ashtottara Shatanamavali, which is a compilation of the 108 names of Lord Hanuman. Hence, in an emergency related to danger from enemies such people can chant these 3 words Hanuman Mantras derived from the Shri Hanuman Ashtottara Shatanamavali.